"मम्मा...आप अपनी ड्यूटी करो, हम बाद में मिल लेंगे.!"

देखा गया

कोरोना कहर: बच्चों से दूर अपना फ़र्ज़ निभा रही हैं ये माँ


कोरोना ने माँ-बाप से किया दूर, माँ नर्स तो पिता पुलिस की निभा रहे ड्यूटी 



By Desk ✍️


जयपुर-10 मई। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस ने देश,समाज के साथ-साथ लोगों की व्यक्तिगत ज़िन्दगी पर भी गहरा प्रभाव डाला है। इनमे वो लोग भी शामिल हैं जो अपनी सरकारी नौकरी के चलते घर से दूर देशहित में अपना फ़र्ज़ निभा रहे हैं। इस फ़र्ज़ को निभाने के लिए इन्होंने अपने मासूम बच्चों को भी अपने से दूर रख रखा है।
 ऐसे ही एक दंपत्ति हैं जो सीकर जिले के खंडेला तहसील के एक छोटे से गाँव से ताल्लुक रखते हैं।
 इन दोनों का एक छोटा सा प्यारा बेटा है जिससे वो लॉकडाउन के कारण मिल नहीं पा रहे हैं।


 जी हाँ, हम बात कर रहे हैं सवाई मानसिंह अस्पताल में सेकंड ग्रेड नर्स सीमा शर्मा की,जो पिछले दो महीने से पूरे मनोयोग से कोरोना मरीजों की देखभाल में लगी हुई हैं।
सीमा शर्मा ने बताया कि उन्हें अपने बेटे की बहुत याद आती है,दिल करता है कि उड़कर उसके पास चली जाऊँ।  सीमा बताती हैं कि जब वो अपने बेटे से वीडियो कॉल के ज़रिए बात करती हैं तो वो मुझे हिम्मत बँधाते हुए कहता है कि - "मम्मा, आप ड्यूटी करो, हम बाद में मिल लेंगे।उन्होंने बताया कि उनके पति संदीप शर्मा भी इस समय अपना फ़र्ज़ निभाते हुए अजमेर में पुलिस ड्यूटी पर तैनात हैं।

   
 

इतना ही नहीं उनके ससुर भी घर से दूर BSF में बॉर्डर पर तैनात हैं। दोनों भाई भी आर्मी में हैं। हमारी माँ दिल की मरीज़ होने के बावजूद भी हम भाई-बहिनों को यही शिक्षा देती हैं कि कभी भी अपने फ़र्ज़ से पीठ मत दिखाना। इन सब हालातों के बीच मेरी सास गाँव में हमारे बेटे की देखभाल कर रही हैं। सीमा ने कहा कि यह हमारी ज़िंदगी का बहुत कठिन समय है लेकिन देशहित से बड़ा कुछ नहीं।


सीमा शर्मा के साथ कोरोना योद्धाओं के रूप में गणपत, कमलेश, इंदु भार्गव, सीमा वर्मा, रवि स्वामी,उगना आदि भी तन-मन से सेवा कार्य मे जुटे हुए हैं।

Post a comment

0 Comments