RU:- राजनीति विज्ञान विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में ' Pandemics and politics: issues, implications, and inferences,' विषय पर हुई चर्चा

देखा गया

देश में लोकतंत्र वाद व तंत्रवाद के बीच बहस छिड़ी हुई है- प्रो. स्वर्ण सिंह

 महामारी में किसी प्रकार की राजनीति नहीं होनी चाहिए- डॉ. सुभाष गर्ग


Media Kesari Digital Desk ✍🏻

जयपुर-22 मार्च । राजस्थान विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग  द्वारा आयोजित दो दिवसीय यूएलपी राष्ट्रीय संगोष्ठी का शुभारंभ आज सोमवार को आर ए पोद्दार इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के सभागार में हुआ।


  'Pandemics and politics: issues, implications, and inferences,' विषय पर आयोजित इस संगोष्ठी के प्रथम दिन  मुख्य अतिथि तकनीकी शिक्षा मंत्री , राजस्थान सरकार डॉ सुभाष गर्ग ने उद्घाटन करते हुए अपने संबोधन में कहा कि महामारी में किसी भी प्रकार की राजनीति नहीं होनी चाहिए और जनकल्याण ही अभी शासन का एक लक्ष्य होना चाहिए।  

  

      

 मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर स्वर्ण सिंह ने अपने उद्बोधन में कहा कि महामारी एक तरह से अलोकतांत्रिक होती है और एक तंत्र वाद और लोकतंत्र वाद की अब बहस छिड़ चुकी है। भारत अब वैश्विक स्तर पर Covid महामारी की वैक्सीन के निर्यात करने में सक्षम स्थिति में आया है तथा स्वास्थ्य के क्षेत्र में अब जीडीपी में सभी राष्ट्रों को बढ़ोतरी करने की आवश्यकता है।


आरपीएससी के पूर्व अध्यक्ष कोटा विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति एवं अति विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर बी एम शर्मा ने  नागरिक को और अधिक संप्रभु बनाए जाने की आवश्यकता पर जोर दिए जाने की बात कही।  शर्मा ने कहा कि अब हमें जनसंख्या के प्रति कल्याणकारी रुख अपनाना होगा। 

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर विधि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ देव स्वरूप ने  विशिष्ट अतिथि के रूप में अपने संबोधन में बताया कि महामारी का वैश्विक प्रभाव रहा जिससे कि लोगों की जीवन शैली पर प्रभाव पड़ा है। संगोष्ठी की अध्यक्षता राजस्थान विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफ़ेसर राजीव जैन ने कहा कि वैश्विक संकट ने वैश्विक देशों की अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया है। 


  राजनीति विज्ञान विभाग की विभागाध्यक्ष व निदेशक यूएलपी डॉ. मंजू सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि समापन सत्र के मुख्य अतिथि राजस्व मंत्री राजस्थान सरकार  हरीश चौधरी होंगे। मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के पूर्व अधिष्ठाता प्रोफेसर संजय लोढ़ा समापन भाषण देंगे , वाराणसी काशी विद्यापीठ के प्रोफेसर सतीश कुमार अति विशिष्ट अतिथि होंगे तथा समापन सत्र के विशिष्ट अतिथि मोहम्मद फारूक अफरीदी ओएसडी मुख्यमंत्री होंगे । समारोह की अध्यक्षता राजस्थान विश्वविद्यालय के समाज विज्ञान अधिष्ठाता प्रोफेसर एस एल शर्मा करेंगे। संगोष्ठी के संयोजक डॉ श्याम मोहन अग्रवाल ने बताया कि संगोष्ठी में कुल 200 शोधार्थी अपना पत्र वाचन करेंगे तथा पांच तकनीकी सत्र होंगे।

Post a comment

1 Comments