कोरोना की दवा के नाम पर बाबा रामदेव ने पूरे देश को मूर्ख बनाया है - डॉ तोमर

देखा गया

देशभर में कोरोनिल की ब्लैक में हो रही है बिक्री




कोरोना की दवा कोरोनिल बनाने का दावा करने वाले योग गुरु बाबा रामदेव की मुसीबत अब बढ़ती ही जा रही है । पतंजलि के साथ कोरोना की दवा का क्लीनिकल ट्रायल करने वाले निम्स विश्वविद्यालय के मालिक और चेयरमैन डॉ बीएस तोमर ने भी अब बाबा से पीछा छुड़ा लिया है ।



तोमर ने कहा है कि हमने अपने अस्पतालों में कोरोना की दवा का कोई भी क्लीनिकल ट्रायल नहीं किया है । बीएस तोमर ने कहा कि हमने इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में कुछ जड़ी-बूटी दी थी । 


मैं नहीं जानता कि योग गुरु रामदेव ने इसे कोरोना का शत प्रतिशत इलाज करने वाला कैसे बता दिया । मेरा क्लिनिकल ट्रायल से कोई लेना देना नही है । बाबा रामदेव ने ना केवल मुझे बल्कि समूचे देश को मूर्ख बनाया है । 



इस पूरे मामले में हैरत की बात यह है कि 20 मई को निम्स विश्वविद्यालय ने सीटीआरआई से औषधियों के इम्यूनिटी टेस्टिंग के लिए इजाजत ली थी ।  उसी दिन ट्रायल शुरू किया गया और 23 जून को योग गुरु रामदेव के साथ मिलकर डॉ तोमर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से इसे लांच भी कर दिया । पूरे देश मे कोरोनिल की धड़ल्ले से ब्लेक में बिक्री हो रही है और सरकार सोई पड़ी है ।


महेश झालानी

पत्रकार
जयपुर


Post a comment

0 Comments