लगातार बारिश से झालावाड़ के गाँव बने टापू, कालीसिंध बांध के गेट खोल की गई पानी की निकासी

देखा गया

परवन , आहू आदि नदियों की पुलिया पर पिकनिक पर न जाने की जिला कलेक्टर ने की अपील 



 झालावाड़ /हरिमोहन चोडॉवत 


झालावाड़-25 अगस्त। पिछले 3- 4 दिनों  से हो रही लगातार बारिश के बाद झालावाड जिले के सभी बाँधों में पानी की आवक बढ़ी है। यहां तक कि कालीसिंध डेम के तो 10 गेट खोलकर 1 लाख क्यूसिक  पानी की निकासी तक की गई ।

नदियों व पुलियाओं पर पानी भरने की वजह से जिले के आधा दर्जन मार्ग बंद है जिसकी वजह से लोगों को 20 से 25 किलोमीटर का रास्ता घूमकर जाना मजबूरी हो गया है। अकलेरा -बारा मार्ग भी बंद है।
यही नही मनोहर थाना की पुलिया पर पानी होने सेआवाजाही बन्द है।

 
झालावाड से 5 किलोमीटर दूर गागरोन के आसपास के आधा दर्जन गाव टापू बने हुए है दोनों पुलियाओं पर पानी है।
भालता से सरडा मार्ग पर 3 फीट पानी है तो वही घाटोली से कोलखैयरा मार्ग बंद है। आवर पगारिया मार्ग अवरुद्ध है। जिले में पानी ही पानी नजर आ रहा है
झालावाड जिले में अभी तक 600 mm ही बारिश हुई है जिससे बांधों में पानी की आवक बढ़ी है ऐसे में खतरा भी बढ़ा है।

झालावाड जिला कलेक्टर निकया गोहयन लोगो से अपील कर रहे हैं  कि लोग पिकनिक मनाने बांध या नदी किनारे न जाये खतरा बना हुआ है। कालीसिंध ,परवन ,आहू नदी पर खतरा बढ़ गया है। यहां  ऐसे में यहां लोग सेल्फी लेने या घूमने पिकनिक मनाने के लिए आते है इसके लिये आम लोग नदी डेमो पुलियाओं से दूरी बनाए जिससे जन हानि न हो। साथ ही सोशल डिस्टेंट की पालना भी करे। घरो में रहें, सुरक्षित रहें क्योंकि झालावाड चेरापूंजी जिला है और औसत यहां 1000 mm बारिश आम बात है ऐसे में कभी भी नदिया उफान पर आ जाती हैं ऐसे में जिले वासी  खतरे वाली जगह से दूर रहें।

Post a comment

0 Comments