Mumbai News- उम्मीद (द होप) संस्था ने जरूरतमंद दिव्यांगो को बाँटे कृत्रिम अंग व सहायक उपकरण

देखा गया

दिव्यांगों को डिसेबल्ड ना कहकर डिफरेंटली एबल्ड कहना ज्यादा अच्छा होगा--  ऋता आव्हाड



संवाददाता- सारा  पूरी ✍🏻


मुंबई-- विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर शहर की संस्था उम्मीद (द होप) फाउंडेशन द्वारा जरूरतमंद दिव्यांगो को व्हिलचेर,ट्राय साइकिल व कृतिम अंगों का वितरण किया गया। 10 दिन  से चल रहे इस कार्यक्रम में उम्मीद फाउंडेशन के विकलांग बच्चों की टीम ने संयुक्त रूप से फैंसी ड्रेस,डांस,आदि प्रतियोगिता में भाग लिया। रंग-बिरंगी पोशाकें पहनकर बच्चों ने 'तारे जमीं पर' गाने पर नृत्य कर दर्शकों का मनोरंजन किया।

  मुख्य अतिथि ने बच्चों को मैडल,प्रमाणपत्र और मूमेंटो देकर सम्मानित किया।



ऋता आव्हाड ने अपने उदबोधन में कहा कि उम्मीद फाउंडेशन के विकलांग बच्चों को पढ़ा लिखाकर उनकी सेवा करना यह बहुत बड़ी बात हे और उनकी सच्चे दिल से सेवा करते हैं ताकि बच्चों का हौसला बढ़े। उन्होंने आगे कहा कि शारीरिक व्याधियों से जूझ रहे बच्चों को डिजेबल्ड ना कहकर डिफरेंटली एबल्ड कहना ज्यादा अच्छा होगा। अगर उन्हें उनकी वास्तविक शक्ति का अहसास दिलाया जाए तो उनके साधारण से कुछ खास बनने में उन्हें देर नही लगेगी। 

वही फाउंडेशन के अध्यक्ष फरीद ने कहा कि हमारा मकसद है कि इस तरह  समाज मे विकलांगो को बराबरी के अवसर,उनके अधिकारों के बारे में लोगों को जागरूक करने और सामान्य नागरिकों की तरह उनकी सेहत पर भी ध्यान देने के साथ सामाजिक - आर्थिक स्थिति को सुधारने आदि पर ध्यान केंद्रित किया जाए।



 इस कार्यक्रम को कामयाब बनाने के लिए मुख्य अतिथि के रूप में वर्ल्ड मेमन ऑर्गनायजेशन के अध्यक्ष एहसान गालावाला,

हाजी उस्मान लोखंडवाला, शब्बीर पात्का,अशफाक मेमन, हासिम अंगाडी के अलावा फाउंडेशन के अध्यक्ष परवेज फरीद,स्थानीय नगरसेवक सिराज डोंगरे,नगरसेविका हाफीजा नाईक,साजिद डोंगरे,खालिद डोंगरे,आशिक गर्दी,नेहा नाईक आदि उपस्थित थे।

Post a comment

1 Comments