गोरखपुर- इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन ने CM योगी से की पत्रकार राकेश सिंह के हत्यारों को फाँसी की मांग

देखा गया

पत्रकार राकेश सिंह और उनके साथी पिन्टू साहू की निर्मम हत्या के विरोध में इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन ने दिया ज्ञापन


आग लगाने के लिए हत्यारों ने प्रयोग किया था सैनेटाईजर




मीडिया केसरी वेबडेस्क ✍🏻


गोरखपुर(उत्तर प्रदेश)- 1 दिसंबर। पिछले दिनों हुए राकेश सिंह हत्याकांड से पत्रकारों में गहरा रोष है। इसी सिलसिले में इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सेराज अहमद कुरैशी के नेतृत्व में मंगलवार को पत्रकारों का एक प्रतिनिधि मंडल जिलाधिकारी गोरखपुर के कार्यालय पहुँचा लेकिन उनके अनुपस्थित होने के कारण मुख्य प्रशासनिक अधिकारी से मिला और बलरामपुर में पत्रकार राकेश सिंह व उनके साथी की जलाकर निर्मम हत्या के विरोध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम ज्ञापन सौंपा।



गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से लगभग 160 किमी दूर बलरामपुर कोतवाली थाना क्षेत्र के कलवारी गांव में रहने वाले एवं हिन्दी दैनिक 'राष्ट्रीय स्वरूप'  व यूट्यूब चैनल के पत्रकार राकेश सिंह (35 वर्ष ) अपने किराये के घर में सो रहे थे,इस दौरान कमरे में दूसरे बिस्तर पर राकेश सिंह के साथी पिन्टू साहू सो रहे थे। अचानक रात में तेज़ धमाका हुआ। घर के दाएँ तरफ की दीवार गिर गयी। दीवार गिरने की आवाज़ से ग्रामीणों को घटना की जानकारी हुई। आग इतनी भीषण थी कि घर के अंदर सो रहे राकेश सिंह और साथी पिन्टू साहू बुरी तरह से झुलस गए और सारा सामान जल गया। दोनों को अस्पताल पहुंचाया गया। जहां डाक्टरों ने पिन्टू को मृत घोषित कर दिया जबकि 90% झुलसे राकेश को लखनऊ रेफर कर दिया। जहां इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। झुलसने के बाद अस्पताल पहुंचे पत्रकार राकेश सिंह ने अपने आखिरी बयान में कहा कि रात को घर में दस से पंद्रह लोग घुस गए थे, उन्होंने ने ही घटना को अंजाम दिया है। हादसे से पहले अनहोनी की आशंका पर पत्रकार ने पूर्व प्रधान व उसके साथियों पर जलाकर मारने की धमकी का विडियो वायरल भी किया था। 


 पत्रकार राकेश सिंह की हत्या को लेकर पत्रकारों में लगातार रोष बढ़ता जा रहा है। इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सेराज अहमद कुरैशी ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि दिवंगत पत्रकार राकेश सिंह की जलाकर निर्मम हत्या मे शामिल दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। मुख्य अभियुक्त को फांसी की सजा दी जाएं। पत्रकार की हत्या की निष्पक्ष जांच सीबीसीआईडी से करायी जाए। 

 कुरैशी ने आगे कहा कि पत्रकार के परिवार को 50 लाख रूपया आर्थिक सहायता के साथ-साथ परिवार में एक सदस्य को सरकारी नौकरी और सुरक्षा प्रदान की जाए। 

जिला अध्यक्ष सुरेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि आये दिन हो रहे पत्रकारों पर हमले से पत्रकारों में असुरक्षा की भावना पैदा हो रही है।सरकार को पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर एक ठोस कानून बनाने की आवश्यकता है।आज पत्रकार तमाम दुश्वारियों को झेलते हुए,जान जोखिम में डालकर खबर संकलन करता है,बावजूद इसके इनकी सुरक्षा की गारंटी नही है। पत्रकारों की सुरक्षा के लिए उत्तर प्रदेश सरकार पत्रकार सुरक्षा कानून शीघ्र लागू करें। 

इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष सेराज अहमद कुरैशी, जिला अध्यक्ष गोरखपुर सुरेन्द्र कुमार सिंह, रफी अहमद, मो. इस्माईल,विवेक कुमार श्रीवास्तव, सुनील उपाध्याय, सरदार गुरमीत सिंह, नवेद आलम, सुनील उपाध्याय, संजय यादव, इरफ़ानुल्लाह खान, मो. कैफ, अवनीश त्रिपाठी, ख्वाज़ा जियाउद्दीन, मोहम्मद आज़म, विजय मोदनवाल, जाकिर अली, डाॅ. शकील अहमद, सतीश मणि त्रिपाठी, अंशुल वर्मा, डाॅ. अतीक अहमद, मोईन सिद्दीकी, मेराज अहमद, परवेज़ अख्तर, अवधेश श्रीवास्तव, सूरज कुमार, सतीश चन्द, वजीहउद्दीन, मो. अहमद खान, मुदस्सिर हुसैन, मोहम्मद आजाद, रामकृष्ण शरण मणि त्रिपाठी आदि पत्रकार गण उपस्थित रहे।

Post a comment

0 Comments