Rajasthan Police in Action Mode-सवा लाख का इनामी कुख्यात दस्यु केशव गुर्जर क्या मध्यप्रदेश में छुपा बैठा है ? क्या रंग लाएगा पुलिस का "दस्यु मुक्त बीहड़" अभियान ?

देखा गया

गत वर्ष पुलिस मुड़भेड़ में हुआ था घायल


Media Kesari Digital Desk ✍🏻

धौलपुर (राजस्थान)-7 अप्रैल। कुख्यात डकैत केशव गुर्जर (Dacoit Keshav Gurjar) व उसकी गैंग (Gang) राजस्थान पुलिस ( Rajasthan Police) के लिए लंबे समय से चुनौती बने हुए हैं।

बीहड़ों में शरण लिए हुए डकैत केशव गुर्जर उत्तर प्रदेश ,मध्य प्रदेश एवं राजस्थान में संगीन वारदातों को अंजाम दे चुका है, जिस पर तीनों प्रांतों की पुलिस की तरफ से 1से सवा लाख का इनाम घोषित किया हुआ है, ताकि क्षेत्र में डकैतों और बदमाशों पर अंकुश लगाकर शांति बहाली की जा सके।


 पुलिस ने डांग क्षेत्र में भी डाला डेरा

पिछले कुछ दिन पूर्व ही डकैत केशव गुर्जर के बाड़ी क्षेत्र के रामसागर क्षेत्र में छिपे होने की सूचना पर जिला पुलिस अधीक्षक ने कमान संभालते हुए कई स्थानों पर दबिश दी थी, लेकिन कोई भी सुराग नहीं लग सका। क्षेत्र में पुलिस का तलाशी अभियान फिलहाल जारी है।

 जिला पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत के अनुसार डकैत केशव की अधिकांश गतिविधियां बसई डांग थाना क्षेत्र में रहती है। यहां उसके नजदीकियों को भी चिन्हित किया जा चुका है। हाल ही में कुख्यात डकैत केशव गुर्जर की मोबाइल लोकेशन रामसागर बांध क्षेत्र के आसपास होने की सूचना मिली। इस पर पुलिस उप अधीक्षक बाडी,  जिला स्पेशल टीम (डीएसटी)क्यूआरटी व भरतपुर की एआरटी टीम ने क्षेत्र में दबिश दी। 


पुलिस ने क्षेत्र के रामसागर, मगजीपुरा, देवी सिंह का पुरा, सहेड़ी, बासां,  जमूरा आदि गांवों में पुलिस की टीमों ने संभावित स्थानों पर दबिश दी। डकैत केशव का मोबाइल स्विच ऑफ हो जाने के बाद लोकेशन नहीं मिल सकी।


पिछले वर्ष पुलिस फायरिंग में घायल हो जाने के बाद से फरार है दस्यु केशव

गत  वर्ष में 27-28 दिसम्बर को बाड़ी सदर थाना इलाके के गांव पगुली में 132 केवी जीएसएस पर चल रहे निर्माण कार्य के दौरान चौथ वसूली करने आए सवा लाख के इनामी डकैत केशव गिरोह का सामना पुलिस से हो गया। 



दरअसल पुलिस ने डकैत गिरोह को पकडऩे के लिए मजदूर बनकर जाल बिछा रखा था। पुलिस को देखकर डकैत ने फायरिंग करना शुरू कर दिया, जवाब में पुलिस ने भी ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इस दौरान डकैत केशव के कंधे व पैर में गोली लग गई और वह अपने साथियों के साथ मौके से फरार हो गया। पुलिस की ओर से अभियान चलाया गया, लेकिन केशव के क्षेत्र छोड़ देने की जानकारी मिली। 


आखिर कहाँ छुपा बैठा है डकैत केशव ?

 आपको बता दें कि धौलपुर (Dholpur) जिले से तीन राज्यों की सीमाएँ लगती हैं -उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान। इसलिए अपराधियों को पकड़ पाना  पुलिस के लिए बेहद चुनौतीपूर्ण रहा है। ये शातिर अपराधी अपराध करके एक राज्य से दूसरे राज्य में आसानी से चले जाते हैं। इसलिए पुलिस ने इनकी धरपकड़ के लिए डॉग स्क्वॉड, सर्विलांस, साइबर सेल और ड्रोन की मदद लेती रही है।

 धौलपुर पुलिस को आशंका है कि डकैत केशव डांग क्षेत्र छोड़कर मध्यप्रदेश में जा छुपा है। 

 डकैत पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस ने उसकी पूरी कुंडली तैयार कर ली है। पुलिस उसके गिरोह, नज़दीकी दोस्तों व रिश्तेदारों पर लगातार निगरानी रखे हुए है।


 पुलिस सूत्रों ने बताया कि कुख्यात डकैत केशव के परिवार में उसके पांच भाई है। जिनमें उसका छोटा भाई गब्बर सिंह उर्फ छोटू हाल में जेल है, जबकि एक भाई गांव में रहकर ट्रक चालक का काम करता है, जबकि एक भाई महाराष्ट में टैक्सी चालक है। इसी क्रम में एक भाई शीशराम केशव के साथ फरार बना हुआ है। केशव की बहनें करौली व सरमथुरा क्षेत्र में अपनी-अपनी ससुरालों में रहती है। जबकि केशव की मां का देहांत हो चुका है और पिता कहीं अन्य स्थान पर रहते है। पुलिस की ओर से केशव के फरार चलने के दौरान परिवार के इन सदस्यों पर विशेष निगरानी रखी भी जा रही है।

  पुलिस का कहना है कि दस्यु मुक्त डांग (Dasyu Mukt Dang Abhiyan) और दस्यु मुक्त बीहड़ (Dasyu Mukt Beehad)अभियान आगे भी जारी रहेगा।

Post a comment

0 Comments