फंसे हुए प्रवासियों को अपनो के बीच भेजने के लिये तत्परता से जुटी है तहसीलदार अर्शदीप बरार

देखा गया

चाकसू /फकरुद्दीन खान ✍🏻


           एक ओर कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरा देश जूझ रहा है तो वही दूसरी ओर प्रशासन कोरोना योद्धा बन कर्मवीरों की भूमिका निभा रहा है। ऐसी ही एक अधिकारी चाकसू में कार्यरत हैं जो लॉक डाउन के बाद से ही अपने परिवार की जिम्मेदारियों को भूल ड्यूटी के प्रति पूर्ण रूप से समर्पित है। चाकसू तहसीलदार अर्शदीप बरार जब से लॉकडाउन लगा है तब से कोरोना संकट से निपटने के लिए चल रही जंग में पीछे नही हैं।


चाहे व्यापारियों से समझाइश करनी हो या फिर कठोर कारवाई हर क्षेत्र में उनकी कार्यशैली देखते ही बनती है। तहसीलदार बरार इस संकटकाल में जिला प्रशासन के द्वारा सौंपी गई सभी जिम्मेदारियों का निर्वहन पूरी मेहनत और ईमानदारी से कर रही हैं। जैसे जैसे लॉकडाउन बढ़ रहा है वैसे वैसे प्रशासन की चुनोतियाँ भी बढ़ रही है लेकिन इसके लिए प्रशासन पूर्ण रूप से सजग नजर आ रहा है। जिला प्रशासन के निर्देश अनुसार तहसीलदार अर्शदीप बरार प्रवासियों को उनके घर भेजने में अहम भूमिका निभा रही हैं। शुक्रवार को तहसीलदार बरार ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया की
जो भी प्रवासी अपने घर जाना चाहते हैं उनका रजिस्ट्रेशन करवा दिया गया है। ऐसे लोगो का मेडिकल टेस्ट करवाया जाता है। उनके डॉक्यूमेंट तैयार किये जाते हैं। उसके बाद ट्रेनों के शेड्यूल अनुसार उनको रेल्वे स्टेशन तक लेकर जाते हैं। वहाँ दोबारा से उनकी स्क्रीनिंग की जाती है और फिर खाना देकर उनको रवाना किया जाता है।


बरार ने बताया कि अब तक कुल 800 लोगो का राजिस्ट्रेशन किया जा चुका है जिनमे से 400 लोग अब तक यहाँ से अपने घर के लिए रवाना हो चुके हैं। जैसे जैसे अन्य राज्यो की परमिशन मिलेगी वैसे वैसे बाकी लोगो को भी जल्द ही भेज दिया जाएगा। वही दूसरी ओर उपखंड अधिकारी ओमप्रकाश सहारण ने प्रवासियो से अपील की है कि कोई भी प्रवासी पैदल यात्रा ना करे, सरकार प्रवासियों को उनके घर पहुँचाने के सारे इंतजाम कर रही है। प्रवासी थोड़ा धैर्य रखें और प्रशासन का सहयोग करे।

Post a comment

0 Comments