अफ़ीम में मिली मिलावट, 247 गांव के 2150 अफ़ीम काश्तकारों की लगभग 10 क्विन्टल अफ़ीम की हुई तुलाई

देखा गया

अफ़ीम की रेट बढ़ाने की उठाई माँग



छीपाबड़ौद/ जितेंद्र कुशवाह ✍🏻



बारां जिले के छीपाबडौद कस्बे में चल रहे अफ़ीम तौल केन्द्र का समापन रविवार को हुआ जिसमे 14 दिनों में 247 गांव के 2150 किसानो की 10 क्विन्टल के लगभग अफीम की तुलाई हुई।

 जिला अफीम अधिकारी राजेन्द्र कुमार रजक ने बताया कि यहाँ  बांरा जिले के छबडा छीपाबडौद अटरू ओर कोटा जिले के सांगोद लाडपुरा रामगंजमंडी के किसान अपनी अफीम बारी के अनुसार लेकर आए जिनके ठहरने की संम्पूर्ण व्यवस्था की गई ।


उन्होंने बताया कि अफीम काश्तकार अपनी अफीम मे मिलावटी सामग्री मिला कर ला रहे हैं। अफीम को सर्वप्रथम मिक्सर मे रख कर केमिकली जांच की जाती हे जिसमे सर्वाधिक मात्रा स्टार्च की आ रही है, जबकि पट्टे को बचाने की पात्रता अफीम मे मार्फीन का स्तर होना चाहिए, किसानो को अनेको बार हिदायत देने के बाद भी मिलावटी अफीम ला रहे हैं अधिकारी रजक ने पत्रकारों को बताया कि खराब फसल की हंकाई के लिए कोटा से आई एक टीम पिछले एक माह से कार्य कर रही है। हंकाई का कार्य 2 दिन बाद पूरा हो जायेगा। उन्होंने बताया कि सीआरसीएल की टीम ने पारदर्शिता से सेम्पलिग की जांच की है। उनका किसी भी बाहरी व्यक्ति से संपर्क नही है। साथ ही 9  केटीगिरी मे से यहाँ 6 केटीगिरी के नंबर काश्तकारों की अफीम के दिये जा रहे हैं। जिला अफीम अधिकारी राजेन्द्र कुमार रजक ने स्पष्ट किया है कि हम पूरी पारदर्शिता से कार्य कर रहै है।
समापन के दौरान कांग्रेस जिला सचिव ब्रजराज मीना ने किसानो की ओर से अफीम की रेट बढाने की मांग को लेकर जिला अफीम अधिकारी को ज्ञापन सोंपा ,वही यूथ पेस फाउन्डेशन की ओर से कोरोना बचाव को लेकर सभी कार्मिको को मास्क वितरित किये।

Post a comment

0 Comments