.... तो राजस्थान में लाखों महिलाएँ हो जायेंगी बेरोज़गार !!

देखा गया

पूरे राजस्थान में पोषाहार वितरण सामग्री ग्राम-समूह से ही करवाने की मांग को लेकर भारतीय मजदूर संघ ने सौंपा ज्ञापन


विशेष संवाददाता: हरीश शर्मा

बारां-1 मई। भारतीय मजदूर संघ के जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश शर्मा व जिला महामंत्री चतुर्भुज मालव के नेतृत्व में निदेशक, समेकित बाल विकास सेवाएं, जयपुर को महिला बाल विकास विाभाग की उपनिदेशक, बारां को पोषाहार वितरण सामग्री ग्राम-समूह से वितरण ना करवाकर राशन की दुकानों के माध्यम से वितरण करवाने को लेकर ज्ञापन दिया। ज्ञापन में जिलाध्यक्ष शर्मा ने कहा कि आंगनबाडी केंद्रों पर पोषाहार सामग्री उपलब्ध करवाने हेतु राशन डीलरों को अधिकृत किया जा रहा है, जिस के दुष्परिणाम सामने आने की पूरी-पूरी संभावना है।


 राजस्थान के प्रत्येक गांव में महिला समूह बने हुए हैं, जिनमें 10, 12, 15 महिलायें कार्यरत है। एक गांव में औसतन 12 महिलाओं की भी गणना की जाए तो पूरे राजस्थान में लाखों महिलाऐं बेरोजगार हो जाएंगी। राशन डीलर अक्सर राशन की कालाबाजारी करने में पूर्ण रूप से दक्ष होते हैं। राशन डीलर का ब्लैक में गेहूं बेचते हुए ट्रक पकडा गया, तो कभी ट्रैक्टर पकडा गया आदि की खबरें न्यूज पेपर के माध्यम से कई बार देखी जा चुकी है। ग्राम समूह में कार्यरत महिलाऐं अक्सर एसटी/एससी वर्ग से व विधवा बहिने हैं, जिनका जीविका उपार्जन का अन्य कोई साधन गांवों में नहीं है। शर्मा ने कहा कि इन अबला, विधवा, बहिनों के मुख से रोजी-रोटी ना छिने। इस आदेश से कई महिलाओं के समक्ष भरण-पोषण की समस्या उत्पन्न हो जाएगी। जिलाध्यक्ष शर्मा ने इस आदेश को निरस्त कर पूरे राजस्थान में कार्यरत ग्राम-समूह की महिलाओं को राहत पहुंचाने की मांग की है।

Post a comment

0 Comments