सौ बार सलाम -- एक सिपाही जो कोरोना काल में शिक्षक की भूमिका भी निभा रहा

देखा गया

ड्यूटी के साथ ऑनलाईन क्लासेज देकर बच्चो का संवार रहा भविष्य




केकड़ी/ शिवप्रकाश चौधरी✍🏻


इस महामारी के दौर में कोरोना योद्धाओं ने देश की नींव अब तक हिलने नहीं दी है तथा लगातार जीवन बचाने में जुटे है, चाहे वो सफेद वर्दी पहने चिकित्साकर्मी हो या फिर खाकी वर्दी पहने सिपाही। इन योद्धाओं ने कोरोना जैसी महामारी से बराबर लोहा लेकर देश के नागरिको को जुटाने में पहुंचे है। ऐसे ही एक सिपाही अश्विनी चौहान (आशु) जो इस कोरोना काल में वर्दी का फर्ज निभाने के साथ साथ बच्चो को ऑनलाईन क्लासेज देकर उन्हें पढा रहे है। 




आर.ए.सी.बीकानेर तीसरी बटालियन आशु चौहान मौजूदा कोरोना काल में जहां अपने ड्यूटी पर डटे हुए है वहीं दूसरी ओर रात्रि काल में ड्यूटी से आने के बाद बच्चो को ऑनलाईन क्लासेज देकर उनको पढाई करवा रहे है। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में सभी स्कूलो महाविद्यालयों कोचिंग संस्थाएं करीब तीन महीने से बंद हो रखे है, जिससे विद्यार्थियों को काफी अडचनो का सामना करना पड रहा है, उसी दौर में यह सिपाही देश का वर्तमान सुधारने के लिए सडको पर डटा हुआ है वहीं साथ में बच्चो को ऑनलाईन क्लासेज देकर देश का भविष्य भी सुधारने में लगा हुआ है। केकडी शहर में लम्बे समय तक ड्यूटी देने के बाद वर्तमान में अश्विनी चौहान (आशु) झुन्झुनू पुलिस लाईन में अपनी ड्यूटी निभा रहे है। चौहान ने बताया कि सुबह उठकर वह ड्यूटी पर निकल जाते है तथा शाम को ड्यूटी खत्म होने के बाद विद्यार्थियों को ऑनलाईन क्लासेज देकर उन्हें शिक्षित करने का बीडा उठा रखा है।

यूट्यूब के जरिए प्रतियोगी परीक्षाओं के विद्यार्थियों को दे रहे निःशुल्क कोचिंग






अश्विनी चौहान ने बताया कि वे सोशल मीडिया प्लेटफार्म यूट्यूब पर आशु जीके ट्रिक नाम से प्रतियोगी परीक्षा में भाग लेने वाले विद्यार्थियों को ऑनलाईन कोचिंग दे रहे है। उन्होंने बताया स्कूल, कॉलेज व कोचिंग संस्थाएं बंद होने के चलते प्रतियोगी परीक्षाओं में हिस्सा लेने वाले विद्यार्थियों को तैयारी करने में भी काफी परेशानियों का सामना करना पड रहा था, जिसके बाद उन्होंने ऑनलाईन कोचिंग के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेते हुए एक चैनल बनाया तथा उस प्रतिदिन पटवार, राजस्थान पुलिस, दिल्ली पुलिस सहित अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के पाठ्यक्रम के अनुसार विद्यार्थियों को तैयारी करवा रहे है, वहीं साथ ही 10वी व 12वीं बोर्ड के विद्यार्थियों को ऑनलाईन कोचिंग देकर विद्यार्थियों के विषय सम्बन्धित तैयारियां करवाने में जुटे हुए है। उन्होंने बताया कि वे इस यूट्यूब चैनल पर विभिन्न प्रतियोगिओं से संबंधित सामग्री रोजाना पोस्ट करते है। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा यूट्यूब चैनल पर अपलोड किए जा रहे प्रतियोगी परीक्षाओ से सम्बन्धित तैयारियों की वीडियो को 12 से 15 हजार छात्र रोजाना देख रहे है, जिससे छात्र लॉकडाउन में अपने समय का सदुपयोग कर अपनी परीक्षाओं की तैयारियों को बिना बाधा पूर्ण कर रहे है। इसके साथ ही वह मोटेविशनल स्पीकर होने के चलते बच्चो को प्रतियोगी परीक्षाओं में मेहनत कर सरकारी नौकरी लगने के लिए मोटिवेट करने का कार्य भी कर रहे है।


यूट्यूब से मिले पैसो को किया दान


आरएसी बटालियन के अपने सिपाही होने का फर्ज निभाने के साथ साथ विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारियां तो करवा ही रहे है इसके साथ ही वे समाज सेवा जैसे कार्यो में भी लगे। अश्विनी चौहान ने बताया कि यू-ट्यूब चैनल पर अपलोड की जा रही वीडियों से उन्हें अब तक 21,000/-रू यूट्यूब द्वारा प्राप्त हुए है जिन्हें उन्होंने मुस्कान संस्थान राजस्थान आपणी पाठशाला जो झुग्गी झोपडी व घुमन्तु परिवारो के शिक्षा से वंचित बच्चो के लिए पुलिस के संयुक्त प्रयासो से संचालित है उसमें दान कर दिए है, जिससे कि गरीब तबके के बच्चे जो पढाई से वंचित है उन्हें उचित शिक्षा के साधन प्राप्त हो सके।

Post a comment

0 Comments