राजस्थान जनकल्याण संघर्ष समिति ने उठाई मांग-- मेट्रो के उद्घाटन से पूर्व सभी हटाए गए मंदिरो को पुनः स्थापित करे सरकार

देखा गया

किशनपोल विधायक अमीन कागज़ी को मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन



मीडिया केसरी वेबडेस्क ✍🏻




जयपुर-20 सितंबर। राजस्थान जनकल्याण संघर्ष समिति के अध्यक्ष विष्णु जायसवाल और महासचिव आशीष शर्मा"क्रांतिकारी" ने परकोटे में मेट्रो के उद्घाटन से पूर्व जो भी धार्मिक स्थल ( मंदिर) तोड़े गए थे उन्हें, उनके  यथास्थान पर विधि विधान से स्थापित करवाने के लिए किशनपोल विधायक अमीन कागज़ी  को मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन सौंपा । जायसवाल ने बताया कि परकोटे (जयपुर शहर) में मेट्रो का काम अब पूर्ण हो चुका है तथा इसका उद्घाटन  दिनाँक 23/09/2020 को होने जा रहा है ।


समिति अध्यक्ष विष्णु जायसवाल ने कहा कि इसी क्रम में एक सबसे महत्वपूर्ण बात को भुला-बिसरा दिया गया है । पूर्व की सरकार ने इसी विकास के नाम पर परकोटे  के अंदर आस्था के प्रतीक अनेक मंदिरों को तोड़कर बड़ी चौपड़ व छोटी चौपड़ के पास एक जगह एकत्रित कर दिया गया था । जिसका की जयपुर की जनता ने पुरजोर विरोध किया था।




 मेट्रो का काम पूर्ण हो चुका है तो हमारा प्रतिनिधि मंडल मांग करता है कि विकास के साथ-साथ आमजन की धार्मिक भावनाओं- आस्थाओं के प्रति किये गए वादों और निर्णयों को पूरा किया जाए तथा मेट्रो के उद्घाटन से पूर्व सभी मंदिरो को उनके यथास्थानों पर विधि-विधानों के साथ स्थापित किया जाए । 

विधायक कागज़ी ने समिति के प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों को आश्वासन दिया कि सरकार इस विषय पर सकारात्मक रूख रखते हुए मंदिरों को पुनर्स्थापित करने के लिए अवश्य कदम उठाएगी ।

 



उल्लेखनीय है कि पूर्व सरकार ने नगरीय विकास मंत्री की अध्यक्षता में दिनाँक 01/12/15 को दोपहर 3 बजे मेट्रों व  मंदिरों के सम्बन्ध में एक समीक्षा बैठक आयोजित की गयी । इस बैठक में के अधूरे रहे विषयों को लेकर पुनः दिनाँक 25/01/2016 को दोपहर 1 बजे  , दिनाँक 28/01/2016 को शाम 6 बजे और दिनाँक  01/02/2016 शाम 7 बजे तक और भी बैठकें हुई । इन बैठकों में यह निर्णय किया गया था कि "सभी मंदिरों को मेट्रो का कार्य पूर्ण होने पर पुनः उनके यथास्थानों पर विधि-विधान से स्थापित कर दिया जायेगा । 

इसी कड़ी में बड़ी चौपड़ पर स्थित श्री गौरी शंकर महादेव  के मंदिर के लिए भी एक समीक्षा बैठक बुलवाकर  दिनाँक 25/05/2016 को शाम 6 बजे  समान निर्णय किया गया । 


ज्ञापन देते समय भवानी शंकर शर्मा ,ओमजी , आनन्द सिंह राठौड़, रणजीत मोदी, देवानंद जैमिनी , सचिन शर्मा साथ रहे ।

Post a comment

0 Comments