FarmersProtest- दिखने लगा असर- अपनों ने ही उठाये बग़ावत के सुर, तो क्या NDA गठबंधन टूटेगा या कृषि बिल होंगे वापस ?

देखा गया

नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने अमित शाह को लिखा धमकी भरा पत्र


बेनीवाल ने क्या कहा-देखें वीडियो 


मीडिया केसरी वेबडेस्क ✍🏻


नागौर(राजस्थान)-30 नवंबर। कृषि कानून के ख़िलाफ़ किसानों के आंदोलन को कुचलने की केंद्र की मोदी सरकार पूरे प्रयास कर रही है। लेकिन इस बार लगता है कि मोदी सरकार अपने नापाक मंसूबों में कामयाब नहीं हो पाएगी। यह आंदोलन मोदी सरकार के गले की हड्डी बनता जा रहा है। 


 अब तो अपनों ने ही बगावत के सुर बुलंद कर दिए हैं।  NDA गठबंधन की सहयोगी पार्टी RLP के सुप्रीमो व नागौर से सांसद हनुमान बेनीवाल ने सोमवार को अमित शाह को धमकीभरा पत्र लिखा है। इस पत्र में उन्होंन कहा कि- "अगर केंद्र सरकार ने तीनों कृषि बिल वापस नहीं लिए तो उनकी पार्टी NDA को अपना समर्थन जारी रखने के बारे में सोचेंगे। उन्होंने अपने पत्र में किसानों को दिल्ली में बातचीत के लिए उचित स्थान देने  की  भी मांग की।



बेनीवाल ने ट्वीट कर कहा कि ''अमित शाह जी, देश मे चल रहे किसान आंदोलन की भावना को देखते हुए हाल ही में कृषि से सम्बंधित लाए गए 3 बिलों को तत्काल वापस लिया जाए। स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करें व किसानों को दिल्ली में त्वरित वार्ता के लिए उनकी मंशा के अनुरूप उचित स्थान दिया जाए।


 ग़ौरतलब है कि केंद्र के तीन नए कृषि कानून के खिलाफ पंजाब, हरियाणा व उत्तर प्रदेश के किसानों का प्रदर्शन पांचवें दिन सोमवार को भी जारी है. 26 नवंबर से दिल्ली के बॉर्डर पर जमे पंजाब और देश के बाकी हिस्सों से आये किसानों का आंदोलन लगता है कि अब असर दिखाने लगा है।

 फिलहाल तो बेनीवाल ने गेंद मोदी-शाह के पाले में डाल दी है।

अब देखना शेष है कि मोदी सरकार कृषि कानून वापस लेगी या हनुमान बेनीवाल NDA से अपना नाता तोड़ लेंगें ?

Post a comment

0 Comments