Illegal Mining Baran-मंत्री भाया के गृह जिले की जीवनदायिनी पार्वती नदी खतरे में, सरकारी भूमि पर अवैध रूप से काबिज़ गिट्टी क्रेशर द्वारा धड़ल्ले से हो रहा अवैध खनन

देखा गया

यहाँ स्थित गांवों में सिंचाई का मुख्य स्रोत्र है पार्वती नदी


 ग्रामीण कई बार कर चुके हैं शिकायत, अधिकारी से लेकर राजनेता तक हैं मौन


बारां- हरीश शर्मा ✍🏻


बारां (राजस्थान)16 जनवरी । मंत्री प्रमोद जैन भाया के गृह जिले  बारां के तिसाया व कोयला के मध्य अवैध रूप से गिट्टी क्रेशर का संचालन किया जा रहा है।

 बारां जिला मुख्यालय से महज 10 किलोमीटर की दूरी पर इस अवैध गिट्टी क्रेशर का संचालन हो रहा है।


इतना ही नहीं, गिट्टी क्रेशर मालिक को बारां में पूरा राजनीति संरक्षण प्राप्त है,जिसके चलते क्रेशर मालिक बेखौफ होकर इसका संचालन  कर रहा है ।



साथ ही क्रेशर मालिक इतना बेखौफ है कि अवैध रूप से पार्वती नदी में से धड़ल्ले से पत्थरों का खनन करके क्रेशर पर लाकर गिट्टी बना रहा है। पार्वती नदी में से अवैध रूप से पत्थरों का खनन होने से पार्वती नदी का स्वरूप बिगड़ता जा रहा है।

ग्रामीणों ने इस बारे में कई बार उच्च स्तर तक लिखित शिकायत भेजी लेकिन जिला प्रशासन, पुलिस विभाग और खनन विभाग जान कर भी अनजान बना हुआ है।


राजनीति वर्चस्व के कारण नहीं कर रहे हैं कोई कारवाई

प्राप्त जानकारी के अनुसार यह गिट्टी क्रेशर सरकारी भूमि पर लगा हुआ है व खनन विभाग की अनुमति भी नहीं है। जहां यह क्रेशर लगा हुआ है वह राजस्थान सरकार के खनन मंत्री प्रमोद जैन भाया के विधानसभा क्षेत्र में आता है।


बारां जिले के लिए जीवनदायिनी है यह नदी

पार्वती नदी जिले के लिए पेयजल का मुख्य स्रोत्र है जो यहाँ के लगभग 117 गांवों की करीब 4 लाख आबादी की प्यास बुझाती है।

सिंचाई का मुख्य स्रोत्र

जिले के छबड़ा,मांगरोल,अटरू आदि की कई हेक्टेयर ज़मीन की सिंचाई नदी पर बने एनीकट द्वारा की जाती है। इसके बावजूद भी खनन माफिया इसे लगातार नुकसान पहुंचा रहे हैं।

Post a comment

0 Comments